सुमधुर संगीत रचने वाले इलैया राजा को पद्म विभूषण से नवाजा जाना संगीत जगत के लिए किसी उपलब्धि से कम नहीं है। इससे पहले उन्हें पद्म भूषण भी मिल चुका है।इलैया राजा ने विभिन्न भाषाओं में एक हजार से अधिक फिल्मों के लिए संगीत तैयार किया है। उनके द्वारा तैयार गीतों की संख्या करीब सात हजार है।

 


देश के दूसरे सबसे बड़े नागरिक सम्मान पद्म विभूषण के लिए इस साल हिंदुस्तानी शास्त्रीय संगीत के महान गायक उस्ताद गुलाम मुस्तफा खान और विचारक पी. परमेश्वरन के साथ फिल्मों में संगीत देने वाले इलैया राजा का भी चयन किया गया है। उन्हें आठ वर्ष पहले पद्म भूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है। अपने चार दशक से अधिक के कॅरियर में इलैया राजा को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर के अनगिनत पुरस्कारों और सम्मानों से नवाजा गया है। उन्हें पांच बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार मिले हैं- तीन संगीत निर्देशन के लिए और दो पार्श्व संगीत के लिए। वर्ष 2012 में उन्हें संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार और 2015 में भारत के 46वें अंतरराष्ट्रीय फिल्मोत्सव में लाइफटाइम एचीवमेंट पुरस्कार दिया गया था।

दक्षिण तमिलनाडु के एक छोटे से गांव में जन्मे इलैया राजा की संगीत यात्रा बहुत ही कम उम्र में शुरू हो गई थी। जब उन्होंने अपने बड़े भाई पावालार वरदराजन की मंडली में प्रवेश लिया था जो घूम-घूम कर गीत-संगीत के कार्यक्रम करती थी। वर्ष 1943 जन्मे इलैया राजा की उम्र तब 14 साल थी और उन्होंने एक दशक तक इस मंडली के साथ काम किया। वर्ष 1968 में वे चेन्नई में प्रोफेसर धनराज के शिष्य बने और संगीत की शिक्षा प्रारंभ की। ग्रामीण पृष्ठभूमि और भाई द्वारा संचालित मंडली के अनुभव के कारण उन्हें तमिल लोक गीत और संगीत का ज्ञान था और अब वे पश्चिमी संगीत से भी परिचित होने लगे थे। शास्त्रीय गिटार की शिक्षा के लिए वे कुछ समय लंदन के ट्रिनिटी कॉलेज आॅफ म्यूजिक में भी रहे। वहां उन्हें गोल्ड मैडल मिला था। उनके फिल्मी और गैर फिल्मी संगीत में लोक संगीत के साथ शास्त्रीय और पश्चिमी संगीत के सुरों का लंबा सिलसिला है। वर्ष 1976 में तमिल फिल्म अन्नाकिली से फिल्मी कॅरियर शुरू करने वाले इलैया राजा ने विभिन्न भाषाओं में एक हजार से अधिक फिल्मों के लिए संगीत तैयार किया है। उनके द्वारा तैयार गीतों की संख्या करीब सात हजार है। यह भी एक दिलचस्प तथ्य है कि जब ज्यादातर संगीत इलेक्ट्रॉनिक कीबोर्ड और कम्प्यूटर से जुड़े यंत्रों से तैयार हो रहा है, सुरों के राजा इलैया राजा संगीत मंडली के साथ गाने रिकॉर्ड करते हैं।

इलैया राजा ने विभिन्न भाषाओं में एक हजार से अधिक फिल्मों के लिए संगीत तैयार किया है। उनके द्वारा तैयार गीतों की संख्या करीब सात हजार है।

स्वभाव से बेहद विनम्र इलैया राजा भले कहते रहते हैं कि संगीत बनाया नहीं जा सकता है, यह घटित होता है, परन्तु उनकी छत्रछाया में पले-बढ़े संगीतकारों, साजिंदों और गायकों की तादाद बताती है कि इलैया राजा की कलात्मक क्षमता प्रतिबद्धता और समर्पण का परिणाम है। शास्त्रीय संगीत के मर्म से इलैया राजा को परिचित कराने वाले वरिष्ठ संगीतज्ञ टीवी गोपाला कृष्णन कहते हैं कि दुनियाभर में नामचीन होने के बावजूद उन्होंने अपनी सरलता को बचा कर रखा है। इलैया राजा लोक और शास्त्रीय संगीत के इस्तेमाल के साथ सिंफनी आॅर्केस्ट्रा की धुनों को पारंपरिक भारतीय वाद्य यंत्रों के साथ भी प्रयोग में लाते रहे हैं। वर्ष 1993 में उन्होंने लंदन के रॉयल फिलहार्मोनिक आॅर्केस्ट्रा के लिए पूरी सिंफनी रची थी। इनसे पहले किसी आॅर्केस्ट्रा के लिए सिंफनी सिर्फ पंडित रविशंकर ने तैयार किया था। इस आॅर्केस्ट्रा के लिए संगीत रचने वाले वे पहले एशियाई हैं।

इलैया राजा के योगदान का महत्व इस बात से लगाया जा सकता है कि ‘टेस्ट आॅफ सिनेमा’ वेबसाइट ने उन्हें दुनिया के सिनेमा इतिहास के 25 महानतम संगीतकारों में रखा है। इस सूची में वे नौवें स्थान पर हैं। वे उन कुछ संगीतकारों में शामिल हैं जिन्होंने सबसे पहले सिनेमाई संगीत में पश्चिमी शास्त्रीय संगीत का इस्तेमाल किया है। संगीत की जोरदार समझ और विभिन्न प्रकार के संगीत का सीधा अनुभव के चलते वे अपनी रचनाओं में बहुत कुछ प्रयोग कर सके और अनूठे संगीत की सौगात दी। यह विविधता को सुर में पिरोने का उनका ढंग ही है जो गांव से लेकर नगरों तक के दर्शकों को समान रूप से पसंद आता रहा है। उनके संगीत के कारण फिल्मों का पूरा स्वरूप बेहतर हुआ और गीतों का प्रभाव बढ़ा। दक्षिण के सिनेमा का शायद ही कोई नामचीन निर्देशक और गायक-गायिका ऐसे होंगे जिनके साथ इलैया राजा ने काम न किया हो। उन्हें स्थापित करने में भी इलैया राजा का बड़ा योगदान रहा है। हिंदी के दर्शक सदमा, अंजलि जैसी डब फिल्मों और महादेव, हे राम, लज्जा, शिवा, चीनी कम, पा जैसी फिल्मों के जरिये इलैया राजा से परिचित हैं।

सुमधुर संगीत रचने वाले इलैया राजा को पद्म विभूषण से नवाजा जाना संगीत जगत के लिए किसी उपलब्धि से कम नहीं है। इससे पहले उन्हें पद्म भूषण भी मिल चुका है।

उन्होंने सिनेमा के अलावा भी बहुत संगीत रचा है। भारतीय और पश्चिमी शास्त्रीय संगीत के मिश्रण से उन्होंने अनेक एल्बम निकाले हैं तथा कर्नाटक शास्त्रीय संगीत पर आधारित भक्ति संगीत की रचना भी की। विश्व संगीत पर आधारित उनका अल्बम द म्यूजिक मेसाया बहुत सराहा गया था। आम तौर पर शालीन और मृदुभाषी इलैया राजा अपने काम के प्रति इतने समर्पित हैं कि उन्होंने कॉपीराइट के सवाल पर मशहूर गायक एसपी बालासुब्रमण्यम को अदालती नोटिस देने से भी गुरेज नहीं किया। एसपी ने अपने अधिकतर गीत इलैया राजा के निर्देशन में ही गाए हैं। पिछले साल जब उन्होंने कई देशों में अपने कार्यक्रम किये और इलैया राजा के गीत गाये, तब यह नोटिस दिया गया था। इस प्रकरण ने सिनेमा में कॉपीराइट के मुद्दे को फिर से चर्चा में लाने में मदद की।

इलैया राजा को पद्म विभूषण से सम्मानित किया जाना सिनेमा संगीत के लिए भी शानदार अवसर है। इस अवसर पर हमारे फिल्मकारों और संगीतकारों को आत्मचिंतन भी करना चाहिए कि शोर-शराबे और नकल के बिना भी कालजयी संगीत बन सकता है तथा लोगों द्वारा पसंद किया जा सकता है। इलैया राजा का लंबा सफर एक बड़ा आदर्श है।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here