मरनाथ यात्रा शुरू हो चुकी है। यात्रा की सुरक्षा के लिए गृहमंत्रालय ने पहली बार राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) को तैनात किया है। पिछले साल 10 जुलाई 2017 को आतंकवादियों ने करीब 50 श्रद्धालुओं की एक बस पर हमला कर दिया था। जिसमे 7 श्रद्धालुओं की मौत हो गयी थी। इस बार अमरनाथ यात्रा का कार्यक्रम 28 जून से 26 अगस्त तक है। खुफिया रिपोर्टों के अनुसार अमरनाथ यात्रा के दौरान यात्रियों और सुरक्षा बलों के कैंपो पर विदेशी आतंकी बड़े हमले की साजिश रच रहे हैं। ऐसे में ब्लैक कैट कमांडो अमरनाथ यात्रियों की सुरक्षा के लिए महाकवच का काम करेंगे। राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड की क्रेक टीम दूर से फायर करने वाली स्नाइपर के अलावा ड्रोन कैमरा एवं वाल पेनिट्रेशन रडार और ग्लोक पिस्टल से लैस रहेंगे। इसके अलावा अमरनाथ यात्रियों के लिए पहले से ही सुरक्षाबलों की 213 कंपनियां और जम्मू-कश्मीर के पुलिस का जाल बिछा हुआ है। यात्रा मार्ग पर स्थित आधार शिविरों के अलावा 300 किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर कई स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था का बंदोबस्त है। सुरक्षा के पहले घेरे में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल, सशस्त्र सीमा बल, बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स के जवान तैनात रहेंगे। जिससे परिन्दा भी पर नहीं मार सकता।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here