वैसे तो कुंभ मेला पूरे विश्व में पहचान का मोहताज नहीं है। प्रयाग (इलाहाबाद) के कुंभ का धार्मिक और आध्यात्मिक महत्व चारों कुंभ में से सबसे ज्यादा है। 2019 में आयोजित होने वाले कुंभ में लगभग 14 करोड़ श्रद्धालुओ के आने की उम्मीद है। विश्व के सबसे बड़े धार्मिक समागम में दुनिया के 190 देशों के लोगों को आमंत्रण भेजा गया है। इससे बड़ी संख्या में अप्रवासी भारतीय भी आएंगे। इसके चलते केंद्र और प्रदेश सरकार व्यापक इंतजाम के लिए हर पहलू को ध्यान में रखकर योजना बना रही है। इतनी बड़ी संख्या में आने वाले श्रद्धालुओ के लिए सुविधाओं और टॉयलेट की व्यवस्था करना अपने आप बड़ी चुनौती है। मेले को खुले में शौचमुक्त (ओडीएफ) बनाकर विश्व रिकॉर्ड बनाने का प्रयास है। इसके लिए 1.5 लाख टॉयलेट का निर्माण किया जाएगा। सरकार ने गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ज्यूरी को आमंत्रण भेजा है। गौरतलब है कि 20 किमी में कुंभ मेला क्षेत्र होगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here