वाणिज्य एवं उद्योग और नागरिक उड्डयन मंत्री सुरेश प्रभु ने कॉफी हितधारकों के लिए डिजिटल मोबाइल विस्तार सेवाएं कॉफी कनेक्ट इंडिया कॉफी फील्ड फोर्स एप और कॉफी कृषिथारंगालांच किया। मोबाइल एप कॉफी कनेक्ट को बागानों में काम करने वाले मजदूरों का काम आसान करने और उनकी कार्य क्षमता को बढ़ाने के लिए विकसित किया गया है। कॉफी कृषिथारंगासेवा शुरू करने का उद्देश्य उत्पादन, लाभ, वातावरण, निरंतरता को बढ़ाने के लिए सही सूचना और सेवाएं प्रदान करना है। कॉफी कृषिथारंगाका कर्नाटक राज्य के चिकमगलुर और हासन जिलों में 30,000 से अधिक किसानों पर पहले साल के दौरान प्रायोगिक परीक्षण हो चुका है और चरणबद्ध तरीके से इसका विस्तार अन्य कॉफी उत्पादकों तक होगा। भारत में कॉफी की खेती 3.66 लाख कॉफी किसानों द्वारा 4.54 लाख हेक्टेयर जमीन पर होती है। इसकी खेती मुख्यत: कर्नाटक (54 प्रतिशत), केरल (19 प्रतिशत) और तमिलनाडु (8 प्रतिशत) में होती है। कॉफी की खेती आन्ध्र प्रदेश, ओडिशा और पूर्वोत्तर के राज्यों में भी होती है। इस तरह इस पहल से कॉफी क्षेत्र से जुड़े सभी हितधारकों को लाभ मिलेगा।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here