केरल को बाढ़ की त्रासदी से अभी राहत मिली ही थी कि वहां एक और मुसीबत ने दस्तक दे दी। पानी कम होने के साथ अब वहां लेप्टोस्पायरोसिस यानी रैट फीवर का प्रकोप हो गया है। इसके साथ ही कई अन्य बीमारियों से भी लोगों के चपेट में होने की खबर है। राज्य में रैट फीवर के संदिग्ध मामलों में एक दर्जन से अधिक मौत हो चुकी हैं। इसके चलते राज्य में तीन सप्ताह के लिए हाई अलर्ट घोषित किया गया है। कोझिकोड और पथनमतिट्टा जिलों में रैट फीवर के अधिक मामले सामने आए हैं। सैकड़ों लोगों में इस बीमारी के लक्षण मिले हैं। बता दें कि इस बीमारी का प्रकोप बाढ़ के बाद बढ़ जाता है। यह बीमारी जानवरों से इंसानों में फैलती है। गौरतलब है कि केरल में लगभग 20 लाख लोग बाढ़ के पानी के संपर्क में आए थे। इसके कारण सरकार ने इस बीमारी से बचाने के लिए उन सभी लोगों को स्वास्थ्य केंद्रो, अस्पतालों में जाकर उपचार लेने को कहा है। इसके साथ ही रैट फीवर से प्रभावित मरीजों के इलाज के लिए निजी अस्पतालों को भी दिशानिर्देश जारी किए गए हैं।

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here