अहिंसा की प्रयोगस्थली साबरमती आश्रम

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने देश में अपना कोई मकान नहीं बनाया, लेकिन उन्होंने कई आश्रम जरूर बनाएं। उनके आश्रम स्वतंत्रता आंदोलन के केंद्र बने और समतामूलक समाज...

सोने से भर दी गांधी की झोली

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के कहने पर आजादी की लड़ाई के दिनों में लाखों महिलाओं ने गहने नहीं पहनने का फैसला किया था। नमक सत्याग्रह के बाद हरिजन...

महिला शक्ति को स्वतंत्रता आंदोलन से जोड़ा

महात्मा गांधी महिलाओं को रूढ़ियों और कुप्रथाओं से मुक्त करने और स्वतंत्र रूप से व्यक्तित्व विकास के हिमायती रहे हैं। गांधी ने महिलाओं के हक में जोरदार...

गांधी ने चरखे को दिया जीवनदान

महात्मा गांधी की बात हो और चरखे की बात न चले, यह अधूरा सा लगता है। चरखे को हथियार बनाकर ही देश की स्वतंत्रता की लड़ाई लड़ी...

मंदिरों में महात्मा गांधी

गांधी मंदिरों की यह विशेषता है कि यहां भले गांधी भगवान की तरह पूजे जाते हैं, पर साथ ही यहां आने वाले हर आगंतुक को गांधी के...

पत्रकारिता के नटवरलाल!

पत्रकारिता जब मिशन के बजाए स्वहित साधने का जरिया बन जाए, तो वह कुंद और दिशाविहीन हो जाती है। अभिसार शर्मा ने बतौर पत्रकार यही किया है।...

सरकार और गांधीवादी संस्थाएं

महात्मा गांधी की डेढ़ सौंवीं जयंती मनाने के लिए सरकार ने एक आयोजन समिति का गठन किया है। इस समिति में गांधिवादियों को बहुत कम स्थान दिए...

सत्याग्रह से स्वच्छाग्रह तक

चंपारण सत्याग्रह के सौ साल पूरे हो गए। देश में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का यह पहला सत्याग्रह था। इस सत्याग्रह की कामयाबी के बाद गांधी पूरे देश...

महाकाल की नगरी में संवाद

भौतिक जीवन के विकास के साथ प्रत्‍येक विद्यार्थी के आत्मिक विकास की चिंता जब तक दुनिया की शिक्षा पद्धति में नहीं होगी तब तक विश्‍व पुन: अपने...

विकास पर सार्थक चर्चा

विश्व पत्रकारिता दिवस के अवसर पर बीते 2 मई को राजधानी लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में ‘‘उत्तर प्रदेश विकास संवाद’’ कार्यक्रम का आयोजन किया, जिसमें राज्य...

संपादक की पसंद