क्या कास्टिंग काउच मंगल ग्रह की बात है!

फिल्म इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच वह स्याह सच है, जिससे इंकार नहीं किया जा सकता है। श्री ने इसे कह कर, सिर्फ पर्दा उठाया है। इसे उनका...

महिलाओं के साथ ‘कॉरपोरेट’ भेदभाव

भारतीय समाज में महिलाओं के साथ भेदभाव होने की बात लंबे समय से कही जाती रही है। सरकार की तमाम कोशिशों और दावों के बावजूद आज भी...

# मीटू : टूट रही चुपी

अपने साथ हुई यौन उत्पीड़न पर बात करना महिलाओं के लिए सबसे मुश्किल चीज होती है। यही कारण होता है कि ऐसे अपराधी लोग हमारे बीच में रहकर...

अपने बारे में कम सोचतीं महिलाएं

क्या महिलाएं अपने स्वास्थ्य समस्याओं के प्रति लापरवाह होती हैं? या दर्द सहना उनकी मजबूरी होती है? ये सवाल हैं जिन पर व्यापक चर्चा और शोध होने...

सिंदूर ‘पोतना’ या ‘सजाना’

छठ पूजा के दौरान मांग माथे तक सिंदूर लगाने को लेकर हिंदी अकादमी की उपाध्यक्ष मैत्रेयी पुष्पा ने सोशल मीडिया पर सवाल पूछा, जिस पर लगातार...

‘नाम’ की नहीं, काम की होंगी सरपंच

मुखिया पति या ‘सरपंच पति’, यह सम्बोधन उस व्यवस्था के लूप होल है, जिसे बड़ी सद्इच्छा से शुरू किया गया था। ढाई दशक पहले राजनीतिक सत्ता में...

संपादक की पसंद