फ्रीडम या स्वतंत्रता

अंग्रेजी के ‘फ्रीडम’ शब्द और भारतीय भाषाओं के ‘स्वतंत्रता’ और उसके समानार्थी शब्दों को पर्यायवाची के रूप में उपयोग किया जाता है। लेकिन दोनों के अभिप्राय में...

विपक्षी नेता एनजीओ की भाषा क्यों बोल रहे हैं?

विपक्षी दल संसद और उसके बाहर असम की राष्ट्रीय नागरिक पंजी को लेकर जो हो-हल्ला मचा रहे हैं, वह काफी दुर्भाग्यपूर्ण है। सभी राजनैतिक दलों की एक...

नवाज शरीफ ने यह जोखिम क्यों लिया

पच्चीस जुलाई को हुए आम चुनाव से सिर्फ 12 दिन पहले लंदन से पाकिस्तान लौटकर नवाज शरीफ ने असाधारण साहस का परिचय दिया था। पाकिस्तानी सेना की...

अब दक्षिण कोरिया चाहता है भारत से निकटता

भारत में यह बात विचित्र लग सकती है कि स्मॉर्टफोन बनाने वाली एक कंपनी की एक निर्माण इकाई के विस्तार का उद्घाटन करने के लिए कंपनी के...

अपना रक्षा उद्योग कैसे खड़ा हो

पिछले सात दशक से अपनी रक्षा चुनौतियों को हम कितनी अगंभीरता से ले रहे हैं, इसका सबूत सभी तरह की रक्षा सामग्री के लिए हमारा विदेशों पर...

मनुष्य की अमेरिकी परिभाषा

कल तक जो अमेरिकी संस्थाएं और अखबार चीन का गुणगान करने में लगे हुए थे और उसे विश्व अर्थव्यवस्था का इंजन बता रहे थे, आज वे भारत...

भय बिनु होइ न प्रीति

जम्मू-कश्मीर की कठिन और उपद्रवी परिस्थितियों में अपार धैर्य दिखाते हुए सैन्यबलों ने केंद्र सरकार के निर्देश पर आतंकवादियों के विरुद्ध अपना आॅपरेशन महीने भर रोके रखा।...

राज्यतंत्र और अन्न क्षेत्र

सरकारी तंत्र कितना मशीनी ढंग से सोचता है, इसका एक उदाहरण धर्मादा से चलने वाले अन्न क्षेत्रों की अन्न-सामग्री पर लगाया जा रहा जीएसटी है। सभी सरकारों...

शांगरी ला संवाद में पीएम मोदी

कुछ समय से ‘शांगरी ला संवाद’ रणनीतिक विषयों पर बात करने के लिए एक महत्वपूर्ण प्लेटफार्म हो गया है। लंदन से संचालित होने वाली इस संस्था ‘इंटरनेशनल...

गिलगित-बाल्टिस्तान हड़पने की तैयारी

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने 26 मई को गिलगित- बाल्तिस्तान की परिषद और विधायिका की एक संयुक्त बैठक में घोषणा की कि पाकिस्तान इस क्षेत्र...

संपादक की पसंद