“आप” ने महाठग को भी ठगा
जेल में बंद ठग सुकेश चंद्रशेखर ने उपराज्यपाल को लिखे सात पत्रों के जरिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पूर्व जेल मंत्री सत्येंद्र जैन पर गंभीर आरोप लगाया है। सुकेश से 50 करोड़ रुपये की वसूली ने इस बहस को जन्म दे दिया कि महाठग कौन है सुकेश या सत्येंद्र जैन।

“आप” ने महाठग को भी ठगा

युगवार्ता    17-Nov-2022
Total Views |

जेल में बंद ठग सुकेश चंद्रशेखर ने उपराज्यपाल को लिखे सात पत्रों के जरिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और पूर्व जेल मंत्री सत्येंद्र जैन पर गंभीर आरोप लगाया है। सुकेश से 50 करोड़ रुपये की वसूली ने इस बहस को जन्म दे दिया कि महाठग कौन है सुकेश या सत्येंद्र जैन।


Sukesh Chandrasekhar, Arvind Kejriwal, Satendra Jain

राम जी तिवारी 

नी लॉन्ड्रिंग मामले में में दिल्ली के मंडोली जेल में बंद महाठग सुकेश चंद्रशेखर ने आम आदमी पार्टी, सीएम अरविंद केजरीवाल, सत्येंद्र जैन और मनीष सिसोदिया की नाक में दम कर रखा है। वो आए दिन सनसनीखेज खुलासे कर रहा है। सुकेश जेल से अब तक सात पत्र लिख चुका है। उसने यह पत्र अपने वकील अशोक सिंह के जरिए जारी किया। उपराज्यपाल विनय कुमार सक्सेना के नाम लिखे खत ने दिल्ली की राजनीति में भूचाल ला दिया है। यह दिल्ली के सीएम केजरीवाल और सत्येंद्र जैन के लिए गले की फांस बनता जा रहा है। यही नहीं सुकेश ने पत्र के जरिए जो आरोप आम आदमी पार्टी पर लगाए हैं। उसकी सत्यता सिद्ध करने के लिए वह अपना पॉलीग्राफी टेस्ट तक कराने को तैयार है। पत्रों के जरिए उसने दावा किया है कि उसने आम आदमी पार्टी को 50 करोड़ रुपये दिए हैं। यह रुपये सात अलग-अलग खातों में मंत्री सत्येंद्र जैन व कैलाश गहलोत को दिए।

इसके अलावा जेल में सुरक्षित रहने के लिए उसने सत्येंद्र जैन को दस करोड़ रुपये भी दिए। सुकेश के दावों के मुताबिक रकम देने के बाद वह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से भी मिला था। सुकेश के आरोप के अनुसार उसने सीएम केजरीवाल और सत्येंद्र के लिए करोड़ों की घड़ी दुबई से मंगाकर गिफ्ट दी। सुकेश ने चिट्ठी में लिखा कि सत्येंद्र जैन जी आपको याद होगा कि मैंने केजरीवाल जी के लिए जैकब एंड कंपनी एस्ट्रेनोमिया की घड़ी दी। इस घड़ी का स्ट्रैप नीले से काले रंग का बदलने के लिए आपने कहा और मैंने अपने स्टाफ को दुबई चार्टेड प्लेन से भेजकर इसे चेंज कराया। साथ ही आपने व्हाट्सऐप पर मुझे पटेक फ्लिप और कार्टियर पेंथर वुमेन्स एडिशन घड़ियां लाने को भी कहा था, जो मैंने आपके लिए खरीदी थी। इसके बावजूद आप मुझे महाठग कहते हो।

 चिट्ठी के जरिए गंभीर आरोप

* सुकेश ने चिट्ठी के जरिए सीएम केजरीवाल से पूछा है कि यदि मैं देश का सबसे बड़ा ठग हूं, तो फिर आपने मुझ जैसे ठग को राज्यसभा सीट का ऑफर क्यों दिया और बदले में 50 करोड़ रुपये क्यों लिया।

* उसने दावा किया है कि सत्येंद्र जैन ने पैसे देने के लिए लगातार दबाव बनाकर मजबूर किया। जिसके चलते 2-3 महीनों के अंतराल में 10 करोड़ वसूली गई।

* सुकेश के मुताबिक मैंने जो आरोप लगाए वो सभी एक दम सही हैं। उनके सबूत तक देने को तैयार हूं। हम तीनों का एक साथ पॉलीग्राफ टेस्ट हो और इस टेस्ट का लाइव प्रसारण हो ताकि अरविंद केजरीवाल, सत्येंद्र जैन और मेरा सच देश के आगे उजागर हो सके।

उसने जेल के डीजी संदीप गोयल पर 12.50 करोड़ रुपए जबरन वसूलने का आरोप लगाया। उसने लिखा कि यह रुपये प्रोटेक्शन और जेल में सुविधाओं के लिए दोनों को दिए गये। हालांकि जबरन वसूली के आरोप में संदीप गोयल को पद से हटा दिया गया है।

* केजरीवाल जी अगर मैं महाठग हूं तो आपने दिल्ली सरकार के स्कूलों के प्रमोशन के लिए मुझे इंटरनेशनल पीआर अरेंज करने के लिए क्यों बोला था। न्यूयॉर्क टाइम्स, वॉशिंगटन पोस्ट जैसे अखबारों में पेड न्यूज के लिए 8 लाख 50 हजार डॉलर (करीब 7 करोड़ रुपये) और 15 फीसदी एक्सट्रा कॉमिशन दिया गया। मुझे कहा गया कि ऐसा प्रमोशन हो जो अभी तक किसी ने ना किया हो। पहले यह पूरा पैसा अमेरिकन अकाउंट में डालने के लिए बोला गया, लेकिन सतेंद्र जैन ने बाद में पूरा पेमेंट कैश में देने के लिए क्यों कहा, उन्होंने मेरे जरिए पेमेंट वाइट में क्यों किया।

 

इसके अलावा सुकेश ने कई और संगीन आरोप आम आदमी पार्टी पर लगाए हैं। सुकेश ने कहा उसके जानकार पीएआर एजेंट ने ही न्यू यॉर्क टाइम्स, वॉशिंगटन पोस्ट और टाइम्स मैगजीन जैसे अखबारों में दिल्ली के सरकारी स्कूलों के प्रमोशन की व्यवस्था की। उसके लिए पैसा देकर पेड न्यूज छपवाई गई। ये पेड न्यूज इन अखबारों साढ़े आठ लाख यूएस डॉलर देकर छपवाई।

इसी तरह सुकेश ने लेटर बम के जरिए कई दूसरे संगीन आरोप भी अरविंद केजरीवाल और दिल्ली सरकार के मंत्री सत्येंद्र जैन पर लगाए हैं। सुकेश ने लिखा है कि गोवा और पंजाब चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने मुझसे पैसे मांगे थे और मैंने उन्हें पैसे दिए भी थे। साथ ही पार्टी के लिए 500 करोड़ की व्यवस्था करने का दबाव बनाया था। महाठग की चिट्ठी के बाद सियासत का पारा चढ़ा है। चूंकि दिल्ली में निगम का चुनाव भी है। इसलिए आरोप प्रत्यारोप का दौर शुरू हो चुका है। फिलहाल सुकेश के दावों में हकीकत का पुट कितना है इसकी जांच जरूरी है ताकि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाय।