ताजा खबर

देश भर ने जिस तरह से कवि नीरज के प्रति अपनी भावपूर्ण श्रद्धा प्रकट की, उसने ही यह स्थापित किया कि वे इस सदी के महानतम कवि थे। उनकी महानता का एक पक्ष यह भी था कि उन्होंने अपने...
आजादी की पहली दहाई भारतीय सिनेमा का सुनहरा वक्त माना जाता है। इनमें से 1957 का साल बेहतरीन फिल्मों के लिहाज से अहम है। उसी साल फिल्मकार राज कपूर कामयाब फिल्में बनाने के बाबत कहते हैं कि हीरो-हीरोइन का...
आगामी 18 अगस्त 2018 को भारतीय कप्तान विराट कोहली को एकदिवसीय क्रिकेट में पदार्पण किए एक दशक पूरा हो जाएगा। इन 10 वर्षों में विराट कोहली ने अपने बल्ले से जो कारनामा किया वो बड़े-बड़े क्रिकेटर्स नहीं कर पाए।...

खेल

रिकॉर्ड्स की होड़

इंग्लैंड और भारत के बीच शुरू हुई पांच टेस्ट मैचों की श्रृंखला के पहले टेस्ट मैच में ही कई रिकॉर्ड बने हैं। बर्मिंघम टेस्ट...

लक्ष्य ने हासिल किया अपना लक्ष्य

नाम का असर काम पर भी पड़ता है। इस उक्ति को जीवन का ध्येय वाक्य मान लेना अनुचित होगा। अलबत्ता कई बार यह शत-प्रतिशत...

सोशल मीडिया

21फॉलोवरफॉलो करें
1,084सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ई-पत्रिका

देश

आवरण कथा

देश को आजादी मिले 72 साल हो गए हैं। आजादी के बाद से ही भारतीय अर्थव्यवस्था सिद्धांत रूप में उपनिवेशवाद के दौर से इतर नए ढर्रे पर चलने की कोशिश करती रही है। लंबी गुलामी के कारण देश की...
एक जमाने में भारत की अर्थव्यवस्था का मूल आधार कृषि था। इसकी अपनी वैश्विक पहचान यह थी कि वह बिना किसी बाहरी सहयोग के अपने भीतर से ही भरपूर, सात्विक और पौष्टिक उत्पादन का स्रोत पैदा करती थी। ऐसा...
आज की न्यायपालिका अंग्रेजों की देन है। ऐसा नहीं है कि उनके आने से पहले भारत में न्याय व्यवस्था नहीं थी। यहां एक विकसित न्याय व्यवस्था प्रचलन में थी। हालांकि उनमें एकरूपता नहीं थी। कई तरह के कानून प्रचलन...
देश के इतिहास की अविस्मरणीय तिथि 15 अगस्त सन 1947। इस दिन ब्रिटिश राज की गुलामी से मुक्त होकर हमारे भारत में एक नये राष्ट्र जीवन की शुरुआत हुई थी। मगर इसे विडम्बना ही कहेंगे कि हम गुलामी की...

सभी

संपादक की पसंद

विदेश